11 गीजा मिस्र के पिरामिड के बारे में दिलचस्प तथ्य

पिरामिड प्राचीन मिस्रीयों ने लगभग 3,000 वर्षों तक दुनिया के महत्वपूर्ण हिस्से पर शासन किया। और कला वास्तुकला और पौराणिक कथाओं की समृद्ध विरासत को पीछे छोड़ दिया। लेकिन प्राचीन मिस्र ने बहुत कुछ रहस्य को भी पीछे छोड़ दिया। जो पुरातत्वविदों और विद्वानों को अभी भी हल नहीं कर पाए हैं। यहां तक कि हजारों साल बाद भी यहां प्राचीन मिस्र में कुछ स्थाई रहस्य है।

  1. प्राचीन मिस्र के लोग कैसे दिखते थे ? प्राचीन मिस्र वासियों द्वारा पीछे छोड़ने वाली ममियो मूर्तियों और नक्काशी के बावजूद अभी भी बहुत विवाद है। वास्तव में वे जैसे दिखते थे एक बात के लिए बहुत खास है। – बावजूद इसके कि आप उनके बारे में क्या विश्वास कर पाते हैं। की उन्होंने मिस्र के लोगों को हॉलीवुड की सफेदी दी। प्राचीन मिस्र के लोग गोरे नहीं थे।

2. पिरामिड अभी भी रहस्य में डूबा हुआ है। पिरामिड अपने रहस्य को आसानी से प्रकट नहीं करते हैं। लेकिन समय के साथ विद्वानों ने उनके माध्यम से प्राचीन मिस्र के बारे में कई आश्रर्यजनक तथ्य सीखे हैं। पौराणिक कथाओं और अंध विश्वासो के साथ मिश्रित तकनीकी कौशल ने इन दुर्जय संरचनाओं का निर्माण करने के लिए फिरोंन का नेतृत्व किया। जो अब तक बनाए गए वास्तु कला के सबसे अविनाशी टुकड़ों में से कुछ साबित हुए है इसीलिए जब आपको लगता हैं कि आपने स्कूलों में मिस्र के पिरामड के बारे में जानना जरूरी है तो बहुत कुछ खोज लिया है और अब आपको बताऊंगा पिरामिड से जुड़े रोचक तथ्य हमारे आर्टिकल को पूरा जरूर पढ़ना।

3. गीजा पठार के 3 पिरामिड –

जिन्हें चोप्स ( द ग्रेट पिरामिड ) के रूप में जाना जाता हैं। शेफ्रेन ओर माईसेरिनस मिस्र में सबसे प्रसिद्ध हैं। 130 से अधिक अन्य पिरामिड प्राचीन मिस्र के क्षेत्र में बिखरे हुए पाए गए।

यह वास्तव में पुराना हैं ??

4. गीजा पिरामिडों का निर्माण लगभग 4500 साल पहले किया गया था। 3 पिरामिडों में से गीजा का महान पिरामिड सबसे पुराना हैं। जो मिस्र के मनोवैज्ञानिकों के अनुसार 2560 ईसा पूर्व में बनाए गए थे। हालांकि हजारों वर्ष बाद यह एक मात्र ऐसा पिरामिड है जो अभी भी ज्यादातर बरकरार है।

5. गीजा के पिरामिड प्राचीन विश्व के सात अजूबों में से सबसे पुराने और एक मात्र शेष अखंड आश्चर्य हैं। इस सुची में कभी अलेक्जेंड्रिया का लाइटहाउस रोड्स का कोलोसस और ओलंपिया में जीउस की प्रतिमा शामिल थी। जो आज मौजूद नहीं हैं साथ ही तुर्की में टेंपल ऑफ ऑर्टेमिस के बिखरे हुए अवशेष है।

6. द ग्रेट पिरामिड का निर्माण दो मिलियन से अधिक स्टोन ब्लॉक्स से हुआ है। जो एक ब्लॉक दो से पचास टन तक का होता हैं। हालांकि यह एक रहस्य बना हुआ हैं। की उन्हे कैसे ले जाया गया। इतिहासकारों का अनुमान हैं। की गिजा के पिरामिडों के निर्माण में 100,000 से अधिक लोग शामिल थे। और वे एक बार के लिए गुलाम नहीं थे वे शर्मिको का भुगतान के कर सकते थे।

7. मिश्र में सभी पिरामिड जिसमें गीजा पठार पर निर्मित हैं। जो नील नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है। क्युकी हर शाम सूरज ढल जाता है। जो कि मृतकों के दायरे का प्रतीक है।

8. गीजा के पिरामिड एक बार झिलमिलाते चुना पत्थर से बने सफेद आवरण से ढके हुए थे। जो इतने पॉलिश थे सूर्य की किरणों को दर्शाते थे। दुर्भाग्य से ओवरसीज भूकंप से शिथिल पड़ने के बाद धीरे धीरे गायब हो गए हैं

9.मिश्र में अक्सर झुलसाने वाली गर्मी के बावजूद पिरामिड के अंदर का तापमान लगातार 20 C° पृथ्वी पर ओसत तापमान बना रहता हैं।

10.पिरामिडों की नीव के कोने के पत्थरों के निर्माण में मिस्र के अपने समय से आगे कैसे था। इसका एक आदर्श उदाहरण हैं। यह पता चला था कि भूकंप और गर्मी के मामले के विस्तार के मामले में एक गेंद और सॉकेट का निर्माण किया गया था।

11. द ग्रेट पिरामिड में एक बार एक कुंडा दरवाजा होने की सूचना है जिनका वजन 20 टन तक होने के कारण इसे आसानी से अंदर से खुला रखा जा सकता है। लेकिन बाहरी से पता लगाने के लिए बहुत अधिक फ्लश था।

इसे भी पढ़ें

तारे कितने होते हैं जानिए पूरी कहानी

भारत के बारे में रोचक तथ्य जानिए